Tuesday, April 23, 2013

उठो प्रबुद्ध !





--------------------------------------------------------------

उठो प्रबुद्ध पीढ़ियों ,प्रबुद्ध नौज़वां  उठो 

लुटे- पिटे अवाम की प्रबुद्ध चेतना  उठो

उठो की देश बिक गया, फिरंगियों के हाँथ  में  

उठो निज़ाम मिल गया है वहशियों के साथ में  

उठो की लूट  मच रही है ,लूट गए धरा -गगन  

लुटी  हवा, लुटा है  जल, लुटी हमारी अस्मिता 

लुटे खनिज, लुटी हमारी जंगलों की सम्पदा 

लुटे युवा, लुटी हमारी पीढ़ियों की सभ्यता 

कि  लूट के खिलाफ देश की अवाम एक हो 

किसान  और मजदूर छात्र- नौजवान एक हो

कि  उठ खड़ा हो देश तोड़ दासता की बेड़ियाँ 

कि  एक हो  सपन की राहें -मंजिलें  भी एक हों 

कि एक हो उठो निज़ाम का नकाब चीर दो 

कि तोड़ दो स्वतंत्रता का  चल रहा ढ़कोसला 

उठो कि  लोकतंत्र की उघाड़ दो वो चादरें 

छुपा है जिनकी आड़ में निरंकुशों का घोसला

उठो कि  मीरजाफरों की सजिशों  को तोड़ दो 

उठो कि  उनके मालिकों के बाँह भी मरोड़ दो 

जो जंग आज सामने है देश के अवाम के 

उठो समूची ताकतों को उसकी ओर मोड़ दो। 

                                                        - 
                                                            ----------- 

Saturday, April 6, 2013

हमारा सपना

आजाद देशों की समस्या गरीबी नहीं होती है
 भूखमरी नहीं होती है
 बेरोजगारी नहीं होती है
यह तो गुलाम देशों की समस्या है
 अगर भारत में यह समस्या है तो भारत गुलाम है
अगर अफ्रीका में यह समस्या है तो अफ्रीका गुलम है
अगर दुनिया में  यह समस्या है तो दुनिया गुलाम है
फिर भी इसे आजाद कहा जा रहा है
तो समझो यह अब तक की सबसे बड़ी साजिस  है
जिसमे शामिल है दुनिया भर के बड़े लेखक और कवि
जो शब्दों के अर्थ बदलने में लगे है
 जिसमे छिपी है अब भी चिंगारी
जिन से आग लगने का डर अब भी बना हुआ है
जिसे बदल देना चाहते है आज की लोकतंत्र और आज़ादी में
 जिसे हमें कभी स्वीकार नहीं करना है
यह तो गुलामी की नयी जंजीरे है
 जिसे एक बार फिर हमें लोकतंत्र के नाम पर पहना  दिया गया है
 ताकि इसी बहाने कायम किया जा सके 
आदमी का आदमी से शोषण
 सही ठहराया जा सके लोकतंत्र के नाम पर पूंजीवाद का शासन
 पर हमारा सपना तो समाजवाद से साम्यवाद है
जिसके लिए समर्पित है जीवन। 
            - विनोद शंकर 

Thursday, April 4, 2013

जीतन मरांडी का रिहाई समारोह :

जेल से भेजी मारुती मजदूरों ने अपील:

समर्थन में आज से अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल शुरू 

मारुती कंपनी प्रबंधन, सरकार और प्रशासन के दमन के खिलाफ 24 मार्च से हरियाणा के कैथल जिले में चल रहा अनिश्चितकालीन धरना आज से आमरण अनशन में बदल गया है. संघर्षरत मज़दूरों ने अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल के पक्ष में व्यापक समर्थन की अपील की है. इस मौके पर हम जेल में बंद 147 मजदूरों की और से जारी पत्र को प्रसारित कर रहे हैं...